शारीरिक कमजोरी दूर करने के रामबाण इलाज

शारीरिक कमजोरी दूर करने के घरेलु और आसान उपाए

आज-कल सभी पुरुषो में शारीरिक कमजोरी होने लगी है जिसका कारण है आज का वातावरण और प्रदुषण. आज-कल ज्यादातर पुरुषो में शारीरिक कमजोरी पायी जाती है, जिसको वे दूर करने के लिए तरह-तरह के उपाय आजमाते है. अगर देखा जाए तो हर दिन पुरुषो में से एक पुरुष शारीरिक कमजोरी का शिकार जरुर होता है|

Image result for sharirik kamjori door karne ke upay

आज हम आपको एक ऐसी औषधि के बारे में बताने वाले है जिसको आजमाकर आप भी अपनी शारीरिक कमजोरी दूर कर सकते हो, क्योकि आज का खान-पान ही कुछ ऐसा हो गया है की हमें जो जरुरी पोषण मिलना चाहिए वो नहीं मिल पाता बाद में तनाव और थकान के कारण स्वाभाव भी चिडचिडा हो जाता है.इसलिए हम आपको कुछ घरेलु रामबाण उपाय बताने जा रहे हैं जिससे हर पुरुष की शारीरिक क्षमता बढ़ती हैं |

1-मेथी 

लगभग 5 -10 ग्राम मेथी के बीजों को सुबह -शाम गुड़ में मिलाकर सेवन करने से कमजोरी मिट जाती हैं |

2-छाछ 

छाछ पीने से स्रोतों ,मार्गों की शुद्धि होकर रस का भलीप्रकार संचार होने लगता है तथा आँतों से सम्बंधित कोई रोग नहीं होता है | नियमित रूप से छाछ पीने से शरीर की पुष्टि ,बल ,प्रसन्न्ता और चेहरे की चमक बढ़ती है | पीसी हुई अजवायन। कालानमक और छाछ तीनों को मिलाकर भोजन के अंत में नित्य कुछ दिनों तक पीने से लाभ होता है | छाछ में कालीमिर्च और नमक मिलाकर भी पी सकते हैं |

3-अंजीर 

पके अंजीर को बराबर की मात्रा में सौंफ के साथ चबा -चबाकर किया गया नियमित सेवन 40 दिनों में सारी शारीरिक दुर्बलता दूर कर देता है। मिश्री के साथ सुबह के समय खाना चाहिए इससे कमज़ोरी और गर्मी से राहत मिलती है। अंजीर को दूध में उबालकर-उबला हुआ अंजीर खाकर उसी दूध को पीने से शक्ति में वृद्धि होती है तथा खून भी बढ़ता है।

4-टमाटर 

टमाटर का सूप खून को बढ़ाता है। यह खून ,की कमी को दूर करता हैं| थकावट व कमज़ोरी दूर करता है और चेहरे पर रौनक लाता है।

5-दूध 

स्त्री-प्रसंग करने के बाद एक गिलास दूध में पांच बादाम पीसकर मिलाएं और एक चम्मच देसी घी डालें और पी जाएं। इस के प्रयोग से ताकत मिलती है और नामर्दी दूर करने के लिए सर्दियों के मौसम में आधा ग्राम केसर डालकर पीना चाहिए।

6-फिटकरी

एक किलो फिटकरी अपने शयनकक्ष में रखे| इससे मानसिक तनाव दूर होता है तथा दुर्बलता दूर होती है |

7-काजू 

पैरों पर काजू का लेप करने से पैरों की कमज़ोरी दूर होती है |

8-कॉफ़ी 

कॉफ़ी पीने से मानसिक एवं शारीरिक थकान एवं भोजन के बाद पेट में होने वाली गड़बड़ियां दूर हो जाती हैं | भोजन के बाद कॉफ़ी पी लेने से पित्त प्रसन्न और हल्कापन महसूस होता है,मानो की कुछ खाया ही नहीं है |

9-गंभारी 

सामान्य दुर्बलता,शुक्र दुर्बलता में गंभारी के फल का चूर्ण और मिश्री को एक साथ मिलाकर सुबह शाम 1-1  चम्मच गाय के दूध के साथ सेवन करें तथा बुखार के बाद की दुर्बलता में इसकी छाल का काढ़ा पिलाना लाभकारी होता है |

10-अपामार्ग

अपामार्ग के बीजों को भूनकर इसमें बराबर की मात्रा  में मिश्री मिलाकर पीस लें | एक कप दूध के साथ दो चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम नियमित सेवन करने से शरीर में पुष्टता आती है |

11-लाल चीता 

लगभग एक-दो ग्राम लाल चीता शहद के साथ सुबह शाम सेवन करने से शरीर की कमजोरी मिट जाती है और शरीर को नई स्फूर्ति मिलती है |

12-बांस

दालचीनी,इलाईची,छोटी पीपल,वंशलोचन और मिश्री इन सब चीज़ों को क्रमानुसार एक दुसरे से दुगनी मात्रा में लेकर सभी को पीस लें | यह चूर्ण टी० बी०,बुखार और खांसी के लिए यह बहुत ही अछि औषधि है |

13-बबूल 

बबूल के गोंड को घी के साथ तलकर उस्मि दुगनी चीनी मिला दें | इसे प्रतिदिन 20 ग्राम लेने से शरीर में वृद्धि होती हैं |

14-इलायची 

इलेचगी के दाने,बांस ,कपूर और बादाम प्रत्येक 50-50 ग्राम भिगोकर छान लें | इन्हे 50 ग्राम पीतों के साथ पत्थर पर बारीक पीसकर 2 लीटर दूध में पकाये | हलुआ जैसा होने पर उसमे 20 ग्राम चंडी का वर्क मिलाएं | इसमें से प्रतिदिन 10-20 ग्राम सेवन करने से आँखों की रौशनी एवं शारीरिक शक्ति बढ़ती है |

15-पोस्ता 

पोस्तादाना पीसकर शहद या शर्करा के शर्बत के साथ रोज़ाना सेवन करने से कमज़ोरी मिट जाती है |

16-नमक 

एक भाग नमक में तीस भाग ठंडा मिलाकर घोल तैयार करें | इसको मांसपेशियों में मालिश करने से मांसपेशियों की कमज़ोरी मिट जाती है |

17-नीम 

नीम की छल का काढ़ा बनाकर पीने से बुखार के बाद आयी कमजोरी मिटटी है | नीम के फूलों का चूर्ण सुबह शाम सेवन करने से कमजोरी में लाभ मिलता है |इससे  पाचनशक्ति की खराबी भी सही होती है |

18-काली मूसली 

तीन से छह ग्राम काली मूसली सुबह शाम मिश्र मिले दूध के साथ सेवन करने से कमज़ोरी और नपुंसकता मिट जाती है |

19-सफ़ेद मूसली 

10 ग्राम सफ़ेद मूसली के चूर्ण में चीनी मिलाकर दूध के साथ सुबह शाम सेवन करने से नाप[ुंसक्ता,दुर्बलता और शुक्र में आदि बीमारी से लाभ होता है|

20-शंखपुष्पी 

लगभग 10-20 मिलीमीटर शंखपुष्पी का रस सुबह शाम सेवन करने से कमजोरी मिट जाती है |

21-गुलकंद (गुलाब  की पंखुरियों से बना )

लगभग 10 से 20 ग्राम गुलकंद सुबह शाम सेवन करने से शौंच साफ़ आती है | भूख बढ़ती है शरीर मजबूत हो जाता है | इसके न मिलने पर इसके चूर्ण का भी उपयोग किया जा सकता है | इसे 1/3ग्राम  की मात्रा में लें |

22-माखाना 

मखाने की खीर नियमित सेवन करने से शारीरिक शक्ति और काम शक्ति दोनों में लाभ मिलता  है

23-मुनक्का 

मुनक्के का सेवन करने से कमज़ोरी मिट जाती है इससे मलमूत्र भी साफ हो जाता  है |

24-पुदीना 

पुदीने में विटामिन E पाया जाता है जो शरीर की कमजोरी और वृद्धावस्था में बुढ़ापे को ऐनी से रोकता है | इसके सेवन करने से नसें भी मजबूत होती है |

25-पीपल 

पीपल के पत्तों का मुरब्बा खाने से शरीर की कमजोरी दूर होती है |

Related posts-

26-खजूर 

देसी खजूर खाने से शरीर की कमजोरी मिट जाती है | खजूर के बीजों को निकालकर उस जगह मक्खन  भरकर सेवन करने से कमजोरी दूर हो जाती है | खजूर,चूर्ण और अश्वगंधा लगभग 5 से 5 ग्राम  लेकर दूध के साथ सेवन करने से कमजोरी दूर हो जाती है | नियमित रूप से 10 से १५ खजूर खाकर ऊपर से एक कप दूध पीने से कुछ दिनों में ही स्फूर्ति पैदा होती है,बल बढ़ता है,नया खून पैदा होता है| भैंस के घी में खजूर के बीज को 5 मिनट तक सेककर दोपहर को चावल के साथ खाएं | इसको खाने से पहले एक घंटा सो लें इससे कमजोर व्यक्ति के वज़न में बढ़ोतरी होती है |

Leave a Comment